Home Uncategorized Neem ke Patte khane ke kya kya fayde-What are the benefits of...

Neem ke Patte khane ke kya kya fayde-What are the benefits of eating neem leaves

14
0
SHARE

 नीम के पत्ते खाने के क्या-क्या फायदे हैं

नीम आयुर्वेदिक प्राकृतिक होम्योपैथिक और यूनानी चिकित्सकीय जड़ी बूटी के रूप में प्रयोग की जाने वाली दवा हैं जो इन सभी चिकित्सा में प्रयोग की जाने वाली मेडिसन के रूप में है अगर आप नीम के पत्ते का इस्तेमाल करते हैं तो आप के पास जल्दी कोई बीमारी नहीं आएगी क्योंकि नीम एक आयुर्वेदिक औषधि के रूप में काम करता है नीम खाने से आपके शरीर मैं कई बीमारी उत्पन्न नहीं होगी भारत में कहा जाता है अगर नीम के पेड़ के नीचे भी सोते हैं तो आपको बहुत ही फायदेमंद है

Neem ke Patte khane ke kya kya fayde,What are the benefits of eating neem leaves


प्याज खाने के क्या-क्या फायदे हैं 


नीम के अर्क में मधुमेह डायबिटीज एवं बैक्टीरिया वायरस से लड़ने के गुण पाए जाते हैं और नीम की छाल तने एवं जड़ को पीसकर के मियादी बुखार  में प्रयोग में लिया जाता है और नीम की छाल फोड़ा फुंसी में पीसकर लगाने पर फोड़ा  फुंसी ठीक हो जाते हैं भारत में नीम को गांव का दवाखाना कहा जाता है क्योंकि यह अपने गुणों की वजह से पिछले 4000 वर्षों से आयुर्वेदिक मेडिसिन में लगातार प्रयोग किया जा रहा है संस्कृत में इसे अरिष्ट कहते हैं अरिष्ट का मतलब श्रेष्ठ  पूर्ण लाभ पहुंचाने वाला

 नीम के पत्ते खाने के क्या-क्या फायदे हैं

1. कैंसर के उपचार में – नीम के पत्तों में कैंसर से लड़ने वाले गुण पाए जाते हैं  यह गुण एक जीवाणुरोधी एजेंट के रूप में काम करते हुए हमारे शरीर से कैंसर जैसी खतरनाक पर जानलेवा बीमारी को बचाने का काम करता है. नीम के पत्तों में कैंसर से हो होने  वाले जीवाणुओं को नष्ट करने की क्षमता होती है.
2. त्वचा के लिए –  नींबू हमारे शरीर की त्वचा की देखभाल करने में भी काफी महत्वपूर्ण साबित होता है. नीम के पेड़ की छाल और इसके पत्ते को मिलाकर विद्यापीठ का काढ़ा बनाकर विविध रूप से इसका सेवन करें तो जो हमारी त्वचा की कई समस्याओं को दूर करता है. ऐसी सर्दियों में कई बीमारियों से बचाता है अगर आप नींद पीसकर और उसका अर्थ पीते हैं तो आपको कभी फोड़ा फुंसी नहीं निकलेंगे यह एक आयुर्वेदिक घरेलू उपचार है में कई बीमारियों से भी बचाता है.
3. पायरिया को दूर करने में – यदि आपके मुंह में दुर्गंध की समस्या है. या फिर दांतों में पायरिया है तो आप नवीन के पाउडर में 2 चम्मच शहद मिलाकर खाने से आपके मुंह मैं दुर्गंध और पायरिया जैसी समस्याएं से छुटकारा मिल सकता है. आप चाहे तो मुंह की दुर्गंध दूर करने के लिए नीम की दातुन का भी इस्तेमाल कर सकते हैं


4. मधुमेह के उपचार में – मधुमेह के उपचार में भी नीम के पत्तों की भूमिका महत्वपूर्ण होती है. इसके लिए आपको नीम के कुछ पत्तों को एक कप पानी में भिगो कर रखना होगा सिर्फ पानी को सुबह खाली पेट पीना होगा ऐसा ऐसा प्रतिदिन करने से आपकी शुगर बहुत ही जल्द कंट्रोल हो जाएगी
5. चिकन पॉक्स को दूर करने में –  नीम का इस्तेमाल आप चिकन पॉक्स की समस्या को दूर करने में भी कर सकते हैं जब आपको चिकन पॉक्स की समस्या हो तो आप नीम के पत्तों को अपने बेड पर विचार करके ले सकते हैं और आपको अगर नहाना हो तो आप नीम के डरे हुए पानी से स्नान करें  और  इसके अलावा यदि आप नीम के पेड़ में लगने वाले फलों को दिखाएं तो राहत मिलती है.
6. एलर्जी दूर करने में – नीम के पत्तों की कड़वाहट आपकी एलर्जी को दूर करने का काम करती है. इसके लिए सुबह उठके निम के पत्ते का पेस्ट बनाकर उसकी गोली बनाकर इसे शहद या पानी से निगल लीजिए. गोली लेने के 40 मिनट से एक घंटे तक कुछ मत खाइये ताकि ये गोली ठीक से आपके सिस्टम में पहुँच सके इसके अलावा फोड़ा फुंसी में भी लाभ पहुंचाएगी
7. पाचन में – नीम, हमारे पेट में मौजूद किसी भी तरह के बैक्टीरिया या जीवाणु का प्रतिरोध करता हैं. नीम का सबसे अच्छा गुण ये है. की इसे आप जीवन भर बिना किसी डर से खा या पि सकते हो, इससे शरीर को कोई भी नुकसान नहीं होता क्योंकि यह पूर्णतया आयुर्वेदिक है और आयुर्वेदिक दवा कभी साइड इफेक्ट नहीं करती है .
8. हैजा के उपचार में – हैजा जैसी बीमारियों के लिए भी निम के पत्तों का इस्तेमाल किया जा सकता है नीम से आपको हैजे से भी छुटकारा मिलेगा. एक कप पानी में निम के कुछ 15-20 पत्ते मिलाकर सुबह खाली पेट जब तक पीते रहे जब तक आप को पूर्णतया फायदा ना मिले


9. रक्त संचरण के लिए
यदि आप नीम के सूखे पत्तों को नियमित रूप से चबायें तो इससे रक्त संचरण दुरुस्त होता है. और चेहरे पर चमक आने के साथ ही रक्त भी साफ़ होता है. जिससे कि हमारे शरीर पर फोड़े फुंसी नहीं निकलती हैं और खुजली जैसी भी समस्या नहीं होती है इसलिए आप निम के पत्तों का सेवन कर सकते हैं.
  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here